टूटे दिल का दर्द आख़िर कब ठीक होता है?

दिल टूटने से भी ज़्यादा बुरा था. ठीक एक साल पहले आख़िरी बार मेरा दिल टूटा था. जीवन भर साथ निभाने का ख़ूबसूरत वादा करने वाले पार्टनर के साथ अचानक ही मेरा रिश्ता टूट गया था.मैं उस शख़्स के साथ प्यार में डूबी हुई थी, लेकिन अचानक उसने अपना मन बदल लिया. यह मेरे लिए बड़ा झटका था और लग रहा था कि मैं फिर से पहले जैसी नहीं हो पाऊंगी.हालांकि ऐसा भी नहीं था कि ये मेरा पहला ब्रेकअप था. इससे पहले मैं ब्रेकअप से उबरने के लिए मैं एक रणनीति अपनाती थी. मैं बाहर जाती थी, ड्रिंक्स लेती थी और सब कुछ भूल जाती थी. फिर यही सारी चीज़ें रिपीट करती थी.लेकिन यह कभी कारगर साबित नहीं हुआ, क्योंकि आप सच में कभी भूल नहीं सकते. पूरी तरह से नहीं भूल सकते. इसलिए पिछले साल मैंने कुछ अलग करने का फ़ैसला लिया.यानी बीते 27 साल से जिस शहर में रह रही थी, उससे काफ़ी दूर चली गई. रिश्ता टूटने के बाद मैं उस मानसिक स्थिति से बचना चाहती थी जिसका डर आपके अंदर लगातार बना होता हैबस, गलियों या किसी भी कोने में अपने एक्स से होने वाली मुलाक़ात का डर असहनीय होता है.

लड़की के 3 बॉयफ़्रेंड और तीनों से प्यार मुमकिन है

दिल का दर्द भुलाने के लिए शहर छोड़ दिया

किसी एकदम अनजाने शहर में नए सिरे से शुरुआत करना मुझे इस झटके से उबरने में मदद करेगा, इसको लेकर मैं निश्चिंत थी. मेरे पास बहुत ज़्यादा पैसे नहीं थी, लेकिन बचत खाते में कुछ सौ पाउंड थे.यह मेरे लिए प्रोजेक्ट पूरा करने जैसा था और मैं किफ़ायत से रहना जानती हूं, इसलिए मुझे भरोसा था कि मैं इतने पैसों से लंबे समय तक रह सकती थी.अगले आठ महीने तक मैं ख़ुद में डूबी रही. या कह सकते हैं कि अपने टूटे दिल को संभालने वाली हार्ट थेरेपी में जुटी रही. मैं इस दौरान सैकड़ों मील चली. समुद्र में तैरकर समय बिताया. सिसकती भी रही. लेकिन इन सबके बावजूद मेरा दुख बना रहा.मैंने महसूस किया कि दूर दराज़ हिस्से में रहना, लंबे समय से शहर में रह रहे मेरे जैसों के लिए, एकदम अलग-थलग पड़ जाने जैसा अनुभव था. मैं ख़ुशकिस्मत थी कि मुझे अपने परिवार का सपोर्ट मिल रहा था लेकिन मुझे अपने दोस्तों की ज़रूरत महसूस हो रही थी.कुछ समय के बाद ज़्यादातर दोस्तों ने मुझे फ़ोन करना बंद कर दिया था, क्योंकि सब अपने जीवन में व्यस्त हो जाते हैं. जिन दोस्तों ने आने का वादा किया था वो नहीं आए और मैं ख़ुद को अकेला महसूस करने लगी थी.ऐसे वक्त में मेरे सामने सवाल था कि क्या ऐसी चीज़ें ब्रेकअप से उबरने में मदद करती हैं? क्या वास्तव में ऐसा कोई तरीका है जिससे दिल टूटने की स्थिति को सकारात्मक नज़रिए से संभाला जाए?जब ये स्थिति मेरे सामने आई थी तब मेरे पास कोई रास्ता बताने वाला नहीं था. एक साल बाद मैं यह लेख उन्हीं सवालों के जवाब तलाशने के लिए लिख रही हूं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *