International news

चीन की साजिश 6 साल से तीसरे विश्व युद्ध की कर रहा तैयारी!

आज पूरे विश्व भर में अपना पैर पसार चुके कोरोना वायरस की शुरुआत साल 2019 के आखिर में चीन से हुई एक साल से अधिक समय हो गया है लेकिन दुनिया अब भी इस संकट में फंसी हुई है। चीन को लेकर अमेरिका और ब्राजील जैसे देश साफतौर पर कहे चुके हैं कि उसने कोरोना वायरस को बायोलॉजिकल हथियार के तौर पर तैयार किया है साथ ही कई देशों ने तो इस मामले में चीन की जांच करने की मांग की है। 6 साल पुराने एक दस्तावेज के मुताबिक चीनी वैज्ञानिक कोरोना वायरस की मदद से जैव हथियार तैयार करने पर काम कर रहे थे जिससे तीसरा विश्व युद्ध लड़ा जा सके। अमेरिकी अधिकारियों को मिले इस दस्तावेज में 6 साल से जैव और जेनेटिक हथियार तैयार करने की बात कही गई है
अब अमेरिकी जांचकर्ताओं ने कुछ बड़े खुलासे किए हैं , जिनमें ये बायो हथियार बनाने वाली बात का भी जिक्र किया गया है।अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट को मिले दस्तावेज में दावा किया गया है कि ऐसे युद्ध में जीत के लिए जैव हथियार अहम होंगे। इसमें इनके इस्तेमाल का सही समय भी बताया गया है और ‘दुश्मन के मेडिकल सिस्टम’ पर असर की चर्चा भी की गई है। दि ऑस्ट्रेलियन की रिपोर्ट में पीपल्स लिबरेशन आर्मी के वैज्ञानिकों और स्वास्थ्य अधिकारियों के डोजियर पर बात की गई है और हथियार बनाने के लिए बीमारियों के इस्तेमाल की बात कही गई है। विश्वेषकों के मुताबिक कम से कम 18 वैज्ञानिक हाई-रिस्क लैब में इस पर काम कर रहे थे।

इस दस्तावेज के लेखकों के मुताबिक तीसरा विश्व युद्ध ‘जैव’ होगा। पहले विश्व युद्ध को केमिकल और दूसरे को परमाणु कहा जाता है। इसमें कहा गया है कि जैसे दूसरे विश्व में जीत परमाणु बम ने दिलाई थी और जापान ने हमले के बाद आत्मसमर्पण कर दिया था, वैसे ही तीसरे विश्व युद्ध में जैव हथियार जीत दिलाएंगे। अमेरिकी एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह रिपोर्ट सामने आने से इस बात को लेकर सवाल और चिंता खड़ी हो गई है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के करीबी आखिर किस मकसद से काम कर रहे हैं। उनका कहना है कि बहुत ज्यादा नियंत्रण के बावजूद ऐसे हथियार घातक साबित हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Contact Us