ChattisgarhDelhi-NCRNational

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री गुपचुप तरीके से प्रदेश में 2 दिन बिताकर लौटे दिल्ली

News Ads

प्रदेश में खास अतिथियों का गुपचुप तरीके से आना और दो दिन बाद वापस लौट जाना हैरानी में डाल देता है।जिसका कानो-कान खबर नही होता।बता दें दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया का हाल ही में छत्तीसगढ़ का एक गुप्त दौरा हुआ है। वे रायपुर से करीब 25 किमी की दूर स्थित अछोटी स्थित अभ्युदय संस्थान के आश्रम में दो दिन बिताकर चुपचाप दिल्ली चले गए। वे यहां दिल्ली SCERT के 68 प्राध्यापकों के साथ जीवन विद्या प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने आए थे। उनके इस प्रवास की जानकारी पूरी तरह छिपाकर रखी गई।दिल्ली के उप मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसौदिया इस संस्थान के साथ पिछले 15 वर्षों से जुड़े हुए हैं। उन्हीं की कोशिशों से दिल्ली के सरकारी स्कूलों में चेतना विकास मूल्य शिक्षा अब हैप्पीनेस करिकुलम के रूप में पढ़ाई जा रही है। यह करिकुलम, अभ्युदय संस्थान व अभिभावक विद्यालय के प्रयासों से ही तैयार किया गया था।

डॉ. संकेत ठाकुर ने कहा, दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था में जो भारी परिवर्तन सुनने को मिलता है, उसकी जड़ें छत्तीसगढ़ से ही जुड़ी हुई हैं। उन्होंने बताया, वर्ष 2015 में दिल्ली प्रदेश शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अफसरों ने मनीष सिसोदिया के साथ यहां जीवन विद्या शिविर किया था। उसके बाद एक वर्ष के भीतर दिल्ली के सरकारी स्कूलों के 25 हजार शिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया। इसी आधार पर हैप्पीनेस करिकुलम अब नियमित रूप से दिल्ली के स्कूलों में पढ़ाया जा रहा है।शिविर के दौरान दिल्ली के उप मुख्यमंत्री दूसरे प्राध्यापकों के साथ ही रहे। संस्थान में रहकर प्रबोधक सोम त्यागी को सुनते रहे। कोई भाषणबाजी नहीं हुई। शिक्षकों के साथ चर्चा में शामिल रहे। उन्हीं के साथ लाइन में खड़े होकर भोजन किया और अपना जूठा बर्तन भी साफ किया। इस दौरान जीवन विद्या के प्रवर्तक ए. नागराज पुत्री डॉ. शारदा शर्मा ने उन्हें शिक्षा के मानवीयकरण के सतत प्रयासों के लिए सम्मानित भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Around The World
Back to top button
Contact Us