ChattisgarhRaipur

डोमार समाज ने मुख्यमंत्री भुपेश बघेल से लगाई गुहार बताया अपना सामाजिक दर्द और पिछड़ापन का कारण

News Ads

आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेंश बघेल के पास
एक समाज के टीम ने मुलाकात की।मुलाकात में
यह समाज अपनी समस्याओं का पिटारा मुख्यमंत्री के समक्ष खोल कर रख दिया। मुख्यमंत्री से मुलाकात कर यह समाज अपनी पीड़ा और पिछड़ापन की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करना चाहते थे।ताकि उनके समस्याओं का कोई समाधान निकला जाए।

बता दें प्रदेश के डोमार समाज अध्यक्ष भरत कुंडे टीम के साथ मुख्यमंत्री से मुलाक़ात की और अपना सामाजिक दर्द, और आज़ादी के बाद से आजतक सामाजिक पिछड़ापन का हालात बया किया। इस विस्तार में उन्होंने मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुवे अपनी बात रखी ।क्यूँकि प्रदेश में डोमार समाज ऐसा समाज है, जो आर्थिक कारणों से निरंतर जूझ रहा हैं।समाज की जनसंख्या रायपुर में लगभग एक लाख होने के बावजूद समाज के पास अपना खुद का एक भी भवन नही है।जिनके पास समाज के लिए सामाजिक बैठक करने सांस्कृतिक कार्य के लिए भी स्थान नही है उससे समाज का पिछडा पन सामने आता है।और सभी को दिखता हैं, जिसमें से एक जाति डोमार जाति भी है ।

मुख्यमंत्री ने दिया आश्वासन
डोमार समाज के अध्यक्ष भरत कुंडे ने इस गम्भीर समस्याओं पर अपना दर्द बयाँ करते हुए मुख्यमंत्री के सामने अपनी बात रखी जिस पर मुख्यमंत्री ने कहा की यह समाज के लिए बेहद ही चिंता का विषय है।सामाजिक विशेष पैकेज बनाकर हमारे समाज के लिए 2 से 3 एकड़ ज़मीन तथा उस पर सर्व सुविधा युक्त सामाजिक भवन बना दिया जाएगा जिसपर समाज को नाज़ होगा। मुख्यमंत्री ने माँग पूरी करने का आश्वासन दिया।मुलाकात के दौरान प्रमुख रूप से छतीसगढ़ डोमार समाज के प्रदेश प्रवक्ता नीलेश लंगोटे , जयगोविंद बेरिहा, वरिष्ट समाजसेवी, रोहित बाघ, रितेश समुन्द्रे कु. अंजू लंगोटे सिकन्दर उसरवरसी ज, आदि डोमार समाज के लोग सम्मिलित हुए।

More Article from World

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Around The World
Back to top button
Contact Us