Madhya Pradesh

राज्यपाल मंगुभाई पटेल, मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने जताया दुख, मृतको के परिजनों की 10 लाख और नौकरी देने की की मांग: कांग्रेस

भोपाल, विदिशा। मध्यप्रदेश के जिला विदिशा के गंजबासौदा के लाल पठार में हुए हादसे में मृतको की संख्या लगातार बढ़ रही है। NDRF, SDRF की टीम ने अब तक 4 लोगों का शव कुएं से बाहर निकाले हैं।

बताया जा रहा है कि अभी भी कुँए में 12 लोग फसे हुए है। मौके पर प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग, जिला कलेक्टर और एसपी मौजूद है। दूसरीओर राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह भी पल-पल की जानकारी ले रहे है।

राज्यपाल मंगुभाई पटेल, मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शोक जाहिर किया 

हादसे पर राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने दुख जताते हुए विदिशा जिले के गंजबासौदा में हुई दुर्घटना को लेकर राज्यपाल ने ट्वीट कर लिखा​ कि विदिशा जिले के गंजबासौदा में हुई दुर्घटना के समाचार से अत्यंत दुःखी हूं। मैं ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति। उनके परिजनों को यह गहन दु:ख सहने की शक्ति देने प्रार्थना करता हूं। घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं । 

दूसरी ओर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दुख जाहिर करते हुए कहा गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी दुख जाहिर करते हुए कहा कि  पीड़ादायी घटना है। लगातार बचाव कार्य जारी है। सरकार मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख और घायलों को 50 हजार की सहायता राशि देने का निणर्य लिया है। मीडिया से चर्चा करते हुए मंत्री ने पूर्व कांग्रेस विधायक निशंक जैन के आरोप पर भी बयान दिया। कहा कि प्रशासन को सूचना देने में लोगों ने देरी की। गांव के लोगों ने सोचा वो ही कर लेंगे।

वहीं विदिशा में मुख्यमंत्री के ना पहुंचने पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सफाई दी। कहा कि CM इसलिए नहीं गए क्योंकि प्रशासनिक अपने का ध्यान बंटता है। जिनको रेस्क्यू करना था। सीएम पहुंचते तो उनका ध्यान बंट जाता। विधानसभा की मानसून सत्र की अवधि कम को लेकर मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस चर्चा नहीं हंगामा करती है। समय भी पर्याप्त है।

परिजनों को 10 लाख और नौकरी देने की मांग

कांग्रेस ने विदिशा हादसे पर स्थानीय प्रशासन पर आरोप लगाया है। गंजबासौदा से पूर्व विधायक और कांग्रेस नेता निशंक जैन ने कहा कि गंजबासौदा टीआई को फोन लगाया लेकिन नहीं उठाया। हादसे के तुरंत बाद अगर रेस्क्यू शुरू हो जाता तो कई लोगों की जान बच जाती। पूरे घटना के लिए स्थानीय प्रशासन जिम्मेदार है। निशंक जैन ने मृतक के परिजन को 10 लाख और नौकरी देने की मांग राज्य सरकार से की है। निशंक जैन का दावा वो पूरी रात रेस्क्यू आपरेशन के दौरान मौजूद थे।

प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग का बयान

कांग्रेस नेता निशंक जैन के आरोप पर मंत्री विश्वास सारंग ने पलटवार किया है। कहा कि रात भर से तो दिखाई नहीं दिए। जो लोग रात भर से लगे हैं उनकी पीठ थप थापने के बजाय राजनीति कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Contact Us