NationalUttar Pradesh

जनता की शिकायतों को नजरअंदाज कर रहे प्रतिनिधि और प्रशासन,कैसे होगा समस्याओं का समाधान

News Ads

दरअसल आज हम जिस ख़बर की बात कर रहे हैं वह खबर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जनपद संभल की है।जी हां वही संभल जिसको मुस्लिम बहुल इलाका कहा जाता है, वही संभल जिसको पृथ्वीराज चौहान की राजधानी माना जाता हैं। जो तस्वीरें आपको स्क्रीन पर नजर आ रही हैं वह तस्वीरें हयातनगर के एक कब्रिस्तान की है।जहां पर पिछले कई दिनों से स्थानीय नालों का पानी इकट्ठा हो रहा था। जिसकी शिकायत स्थानीय लोगों द्वारा लगातार प्रशासन व जनप्रतिनिधियों से की जा रही थी,पर हद उस समय हो गई जब कब्रिस्तान के अंदर पानी इतनी मात्रा में घुस गया।

खैर इन बातों से स्थानीय प्रतिनिधियों पर कोई फर्क नहीं पड़ता है।अगर फर्क पड़ता तो उनकी भी आंखें इन तस्वीरों को देखने के बाद शर्म से झुक जाती पर लगता है कि उनकी आंखों का पानी मर चुका है,अगर उनकी आंखों का पानी जिंदा होता तो यह तस्वीरें कभी देखने को नही मिलती । नगर पालिका संबंधित सारा काम उनके पति हाजी शकील कुरेशी जी,हां हाजी शकील कुरेशी जो कि संभल के बड़े मीट कारोबारी हैं।जनाब का जवाब आता है। मैंने ठेकेदार को कई बार बोला है। कि पाइप लाइन का काम जल्दी पूरा करो पर ठेकेदार सुन नहीं पा रहा है ।

हाजी लगता आपकी ये बात सुनकर लगता आपके ओर ठेकेदार के बीच कुछ तो गोलमाल है ,खैर यहां पर भी बात नहीं बनी जब बात इस समाधान की हुई तो हाजी शकील कुरैशी ने कहा स्थानीय लोग भी तो चंदा कर के इस समस्या का समाधान कर सकते हैं अरे सुनिए हाजी जी जनता ने आप को वोट देकर जनप्रतिनिधि चुना है। नगरपालिका की सीट पर बैठाया है अगर यही काम जनता को करना होता तो आप को वोट देकर काहे नगर पालिका में बैठाया जाता आगे आपका सपना विधायक बनने का है। नगरपालिका संभल नहीं रही विधायक बनने के बाद संभल का क्या हाल होगा इन तस्वीरों को देख कर ही अंदाजा लगाया जा सकता है । बात यहीं खत्म नहीं होती है बात नगर पालिका की लापरवाही पर रूकती नहीं है।बात भू माफियाओं की भी होती है।आसपास पानी भर जाने से दीवार खसने के चलते भूमाफिया भी सक्रिय हो गए हैं आज एसडीएम को ज्ञापन देने के बाद स्थानीय लोगों ने बताया कि भू माफियाओं ने कब्रिस्तान के आसपास की जमीनों पर कब्जा कर लिया है और वह इंतजार कर रहे हैं कि कब कब्रिस्तान पूरा पानी से भर जाए उसके बाद पूरे कब्रिस्तान पर कब्जा कर लिया जाए । इस पूरे मामले पर दीपेंद्र यादव को स्थानीय लोगों ने ज्ञापन दिया है,पर मजाल किसी स्थानीय प्रतिनिधि के सामने आकर बोले कि इस काम को सही करवाता हूं । अरे जिम्मेदार लोगो जीते जी तो आप स्थानीय लोगों को सुकून दे नही पाए कम से कम मारने के बाद तो उनको सुकून से रहने दो पर ना आप लोगो ने तो कसम खाई है कि कफ़न भी नोंच लेंगे।

संवाददाता

More Article from World

मुबारक अली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Around The World
Back to top button
Contact Us