Uncategorized

भारत में 100 करोड़ वैक्सीन डोज पूरा होने पर, बिल गेट्स ने ट्वीट कर की तारीफ…

माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स ने देश में 100 करोड़ वैक्सीन डोज लगाने के लिए भारत की तारीफ की है. गेट्स ने पहले भी कोरोनावायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में भारत में प्रयासों की सराहना की है. उन्होंने शुक्रवार ट्वीट कर 100 करोड़ वैक्सीन डोज लगाने पर कहा कि ये उपलब्धि भारत के बड़े पैमाने पर निर्माण करने की क्षमता को दिखाने वाली इच्छा को दिखाती है.

भारत ने गुरुवार को सुबह के वक्त वैक्सीनेशन के मामले में इस मील के पत्थर को हासिल किया. इसे 10 महीने से कम वक्त में हासिल किया गया है. बिल गेट्स ने ट्वीट किया, ‘भारत ने एक अरब वैक्सीन डोज लगाई है, जो इसके इनोवेशन, बड़े पैमाने पर निर्माण की क्षमता और कोविन समर्थित लाखों हेल्थ वर्कर्स की इच्छा को दिखाता है.’

गेट्स ने अपनी पोस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया, प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भी टैग किया. बिल गेट्स ने 28 अगस्त को भी भारत को वैक्सीनेशन को लेकर बधाई दी थी, जब इस खतरनाक बीमारी के खिलाफ एक करोड़ से अधिक भारतीयों को वैक्सीन लगाई गई थी.

प्रधानमंत्री के कुशलता की तारीफ़ की

ये पहला मौका था, जब एक करोड़ से अधिक नागरिकों को एक दिन में वैक्सीनेट किया गया. लेकिन इसके बाद से ये उपलब्धि कम से कम चार अन्य दिनों में हासिल की गई है. इससे पहले, गेट्स ने महामारी के दौरान नेतृत्व के लिए पीएम मोदी की भी सराहना की थी.

19 जनवरी को राष्ट्रव्यापी वैक्सीनेशन अभियान शुरू होने के लगभग नौ महीने बाद, गुरुवार को भारत ने 1 अरब से अधिक वैक्सीन डोज देने का मील का पत्थर हासिल किया. इस आंकड़े में वैक्सीन की सिंगल और डबल डोज लेने वाले लोगों शामिल हैं. सरकार का लक्ष्य 18 साल से अधिक की आबादी को साल के आखिर तक फुली वैक्सीनेट कर देना है.

वैक्सीनेशन के मामले में भारत से आगे सिर्फ चीन है जहां 200 करोड़ से ज्यादा खुराक दी गयी हैं. वहीं भारत 100 करोड़ डोज के साथ दूसरे नंबर पर आता है, जो अमेरिका से 58 करोड़ ज्यादा है. जहां अमेरिका, ब्राजील और इंडोनेशिया जैसे देशों के वैक्सीनेशन का ग्राफ सपाट बना हुआ है, वहीं भारत में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है.

फुल वैक्सीनेशन की बात की जाए तो भारत अपनी 28 करोड़ से ज्यादा आबादी का पूरी तरह से वैक्सीनेशन कर चीन के बाद दूसरे स्थान पर है. ये संख्या अमेरिका से कम से कम 10 करोड़ ज्यादा है और जापान, जर्मनी, रूस, फ्रांस और यूके की पूरी तरह से प्रतिरक्षित आबादी के कुल जोड़ के बराबर है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button