National

बोनसाई का पेड़ लगाने के लाभ, स्वास्थ्य को रखे ठीक और मन को करे शांत

वास्तु शास्त्र (vastu shastra) के अनुसार, ऐसे बहुत से पेड़ पौधे हैं. जिन्हें घर में लगाना बहुत ही शुभ माना जाता है. इन्हीं में से एक बोनसाई का पेड़ (bonsai tree) भी है. कुछ ऐसे लोग होते हैं जो अपने शौक के लिए इन्हें घर पर लगाते हैं.

तो, कुछ लोग प्रकृति प्रेमी होने की वजह से इन्हें घर पर लगाते हैं. ऐसा ही कुछ बोनसाई के पेड़ के साथ भी है. ये पेड़ बहुत ही खूबसूरत नजर आता है. इसके साथ ही ये घर की आबोहवा को भी ताजा स्वच्छ (bonsai tree vastu tips) रखता है. वास्तु शास्त्र कहता है कि बोनसाई के पेड़ों को घर में लगाना बहुत शुभ होता है, लेकिन इन छोटे पेड़ों को लगाने के लिए एक निश्चित दिशा निर्धारित की गई है. जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं. साथ ही ये भी बताएंगे कि आखिर इस पेड़ को लगाने के क्या-क्या फायदे (Benefits of bonsai tree) होते हैं.

घर की हवा करे शुद्ध –

ऐसा माना जाता है कि बोनसाई का पौधा घर में लगाने से घर की हवा स्वच्छ रहती है. ये पेड़ हवा को शुद्ध करता है. इसके अलावा, ये घर में मौजूद टॉक्सिन को बाहर निकालता है. ऐसा होने से आपको घर के अंदर स्वच्छ हवा प्राप्त होती है.

स्वास्थ्य रखे ठीक –

बोनसाई के पेड़ को घर में रखने से स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है. ऐसा माना जाता है कि बोनसाई का पौधा कई बीमारियों से आपकी रक्षा करता है घर के अंदर नकारात्मक ऊर्जा को खत्म करके सकारात्मक ऊर्जा (bonsai tree for health) का संचार बढ़ाता है.

शांति के लिए –

वास्तु शास्त्र में ऐसा कहा गया है कि अगर किसी इंसान को बहुत ज्यादा गुस्सा आता है या फिर वह जल्दी ही किसी बात से फ्रस्ट्रेट हो जाता है. तो, ऐसे में उसे बोनसाई का पेड़ अपने घर में लगाना चाहिए. ऐसा माना जाता है कि इसको घर में लगाने से गुस्से पर काबू रहता है साथ ही मन शांत (bonsai tree for peace) रहता है.

निर्णय लेने की क्षमता करे विकसित –

यदि कोई व्यक्ति किसी काम को लेकर कुछ ज्यादा ही जल्दबाजी दिखाए निर्णय लेने के पश्चात पछताता है, तो ऐसे में बोनसाई का पेड़ उस व्यक्ति की मदद कर सकता है. ऐसा माना जाता है कि बोनसाई का पेड़ घर में लगाने से घर के सदस्य धैर्यवान बनते हैं. साथ ही तनाव मुक्त भी होते हैं. इसके अलावा, बोनसाई का पेड़ निर्णय लेने की क्षमता (bonsai tree decision power) को बढ़ाता है.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!