ChhattisgarhPoliticalRaipur

BJP पर सीएम बघेल का तीखा हमला,कहा- भाजपा वाले बोले थे, आए हमको गिरफ्तार करे, आ गए गिरफ्तार करने, फिर अब हाय तौबा क्यों मचा रहे

 रायपुर : भानुप्रतापपुर उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम की गिरफ्तारी को लेकर सीएम भूपेश बघेल ने बीजेपी पर तीखा हमला बोला है. ब्रह्मानंद नेताम को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि भाजपा वाले बोले थे, आए हमको गिरफ्तार करे, आ गए गिरफ्तार करने, फिर अब हाय तौबा क्यो मचा रहे हैं? अब षड्यंत्र की बात क्यों कह रहे हैं?

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि झारखंड में रघुवर दास सीएम थे और भारतीय जनता पार्टी की सरकार थी, तब की ये घटना है. भारतीय जनता पार्टी बलत्कारी के साथ खड़ी है. बलत्कारी को क्या ऐसे बचाना चाहिए ?. उन्ही की सरकार थी, तब उस समय FIR हुआ था. गलती को स्वीकार करने के बजाय छुपाने की कोशिश कर रहे हैं. एक के बाद एक गलती करेंगे.

वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस षड्यंत्र कर भाजपा प्रत्याशी को फंसाने का काम कर रही है. स्क्रूटनी के दिन कांग्रेस ने कोई आपत्ति नहीं की. कांग्रेस पार्टी भानूप्रतापपुर उपचुनाव के डर से षड्यंत्र कर भाजपा प्रत्याशी को गिरफ्तार करने षड्यंत्र का रचा है.

वहीं उन्होंने कहा कि झारखण्ड के मुख्यमंत्री से मिलकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने षड्यंत्र रचा है. भारतीय जनता पार्टी हर षड्यंत्र के खिलाफ पूरी ताकत से लड़ेगी. 5 दिसंबर को भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में भानुप्रतापपुर की जनता अपने बेटे ब्रह्मानंद के पक्ष में मतदान कर कांग्रेस को सबक सिखाने काम करेगी.

बता दें कि भानुप्रतापपुर उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम की गिरफ्तारी के लिए झारखंड पुलिस छत्तीसगढ़ पहुंची है. नेताम के खिलाफ झारखंड के टेल्को थाना में दुष्कर्म का मामला दर्ज है.

जानकारी के अनुसार, भानुप्रतापपुर उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम के खिलाफ 15 वर्षीय नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म पर झारखंड के जमशेदपुर जिला के टेल्को थाना में 15.06.2019 को अपराध कमांक 84 / 2019 के तहत धारा 366 ए, 376, 376(3), 376 डी बी 120 बी भादवि 4.6 पॉक्सो एक्ट एवं 4,5,6,7,9 अनैतिक देह व्यापार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज है.

मामले में कांग्रेस ने ब्रह्मानंद नेताम पर राज्य निर्वाचन आयोग से आपराधिक जानकारी छुपाने का आरोप लगाते हुए तत्काल नामांकन निरस्त करने की मांग की थी. यही नहीं झारखंड के मुख्यमंत्री से शिकायत कर गिरफ्तारी की मांग करने की बात कही गई थी.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!