National

स्वास्थ्य के क्षेत्र में देश को पीएम मोदी देने जा रहे ये बड़ा तोहफा….

देश को पहली बार स्वस्थ भारत का सपना दिखाने वाले पीएम मोदी ने जब गरीबों के लिए 5 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज का प्रबंध किया था तो पूरी दुनिया ने इसे क्रांतिकारी कदम माना था। आज पीएम मोदी की यह स्कीम लाखों गरीबों की जान बचा रही है। अब प्रधानमंत्री देशवासियों को आयुष्मान बनाने के लिए इससे भी बड़ा तोहफा देने जा रहे हैं। वह कल 11 दिसंबर को गोवा से एक साथ देश को तीन बड़े सुपर स्पेशियलिटी मेडिकल इंस्टीट्यूट की सौगात देने जा रहे हैं। मगर यह तीनों सुपर स्पेशियलिटी इंस्टीट्यूट इसलिए खास हैं कि वह एलोपैथिक न होकर आयुर्वेदिक, यूनानी और होम्योपैथिक होंगे। पीएम मोदी के इस तोहफे से देश में आयुर्वेदिक, यूनानी और होम्योपैथी चिकित्सा अब एक नई इबारत लिखने को तैयार है।

आयुर्वेद, होम्योपैथ और यूनानी में ये तीनों इंस्टीट्यूट देश ही नहीं, बल्कि दुनिया के पहले सुपर स्पेशियलिटी इंस्टीट्यूट होंगे। इस तरह के आयुर्वेद, होम्योपैथ और यूनानी इंस्टीट्यूट की सुविधा अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में भी नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 दिसंबर को गोवा से एक साथ इन तीनों संस्थानों का उद्घाटन करेंगे। इसके साथ ही देश पारंपरिक चिकित्सा का विश्वगुरु बनने के पथ पर अग्रसर हो सकेगा। इन तीनों संस्थानों में आयुर्वेद, यूनानी और होम्योपैथ में पहली बार पीएचडी और एमडी करने की सुविधा होगी।

नरेला में खुलेगा देश का पहला सुपर स्पेशियलिटी होम्योपैथी इंस्टीट्यूट

दिल्ली और हरियाणा के बॉर्डर पर स्थित नरेला में देश का पहला नेशनल सुपर स्पेशियलिटी होम्योपैथी इंस्टीट्यूट बनकर तैयार है। नेशनल होम्योपैथी इंस्टीट्यूट ऑफ दिल्ली (एनआइएच) के एसोशिएट प्रो. डा. सुभाष चौधरी ने बताया कि यह देश का पहला सुपर स्पेशियलिटी नेशनल होम्योपैथी इंस्टीट्यूट होगा, जिसमें ओपीडी और आइपीडी से लेकर सुपर स्पेशियलिटी सुविधाएं लोगों को दी जाएंगी। अभी तक देश के किसी भी होम्योपैथी इंस्टीट्यूट में इस तरह की सुपर स्पेशियलिटी, आइपीडी और ओपीडी की सुविधाएं एक साथ नहीं हैं।

अल्ट्रासाउंड से लेकर सीटी स्कैन तक की सुविधा
क्या आपने कभी सोचा था कि होम्योपैथी इंस्टीट्यूट में भी अल्ट्रासाउंड से लेकर सीटी स्कैन तक की सुविधा मिल सकती है। एनआइएच कोलकाता के डायरेक्टर डा. सुभाष सिंह ने बताया कि इस इंस्टीट्यूट में अल्ट्रासाउंड से लेकर, एक्सरे और सीटी स्कैन जैसी अत्याधुनिक सुविधाएं मिलेंगी। साथ ही सभी तरह की पैथॉलोजी जांच भी मरीजों के लिए उपलब्ध रहेगी। आरंभ में यहां 100 मरीजों को भर्ती करने की सुविधा होगी। यानि अब होम्योपैथी इंस्टीट्यूट में भी मरीजों को भर्ती करके उनका उत्कृष्ट इलाज किया जाएगा। यह होम्योपैथी इंस्टीट्यूट एनआइएच कोलकाता का सैटेलाइट इंस्टीट्यूट होगा।

अब होम्योपैथी में छात्र कर सकेंगे पीएचडी और एमडी
इस सुपर स्पेशियलिटी होम्योपैथी इंस्टीट्यूट में छात्र-छात्राएं पीएचडी और एमडी भी कर सकेंगे। साथ ही होम्योपैथी चिकित्सा से जुड़े अन्य हाई लेवल कोर्स और हाईग्रेड सुविधाएं इस इंस्टीट्यूट में मौजूद होंगी। डा. सुभाष चौधरी और डा.जितेंद्र कुमार ने बताया कि यहां सात विषयों में एमडी करने की सुविधा होगी। इससे पहले देश में यह सुविधा कहीं भी मौजूद नहीं है। उन्होंने बताया कि छात्र छात्राएं अब मेडिसिन, पीडियाट्रिक्स, मैटेरिया मेडिका, आर्गेनर, रैपरट्री, फॉर्मेसी और सायकेट्री जैसे विषयों में होम्योपैथी से एमडी कर सकेंगे।

आनलाइन बुकिंग और डिजिटल कंसल्टेशन के साथ एचडीयू की भी सुविधा
नेशनल होम्योपैथी इंस्टीट्यूट में एम्स की तर्ज पर मरीजों को ऑनलाइन ओपीडी बुकिंग के साथ डिजिटल कंसल्टेशन की भी सुविधा मिलेगी। यहां गंभीर मरीजों को भर्ती करने के लिए आक्सीजन युक्त हाई डिपेंडेंसी यूनिट (एचडीयू) की भी सुविधा होगी। साथ ही हृदय रोग से लेकर कैंसर, ईएनटी, आई, ईसीजी, महिलाओं की डिलीवरी के लिए लेबर रूम, ऑपरेशन थिएटर, इकोकार्डियोग्राफी जैसे अत्याधुनिक सुविधाएं भी होंगी।

गोवा में खुलेगा ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद
पीएम मोदी दिल्ली को नेशनल होम्योपैथी सुपरस्पेशियलिटी इंस्टीट्यूट का तोहफा देने के साथ ही गोवा को ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद की सौगात भी देंगे। यहां बड़ी संख्टा में विदेशी आते हैं। ऐसे में भारत की पारंपरिक आयुर्वेद चिकित्सा का डंका पूरे विश्व में बजेगा। इस आयुर्वेदिक इंस्टीट्यूट में भी होम्योपैथी इंस्टीट्यूट के ही तर्ज पर समस्त सुपरस्पेशियलिटी सुविधाएं होंगी। जिसमें सभी अत्याधुनिक ओपीडी और जांच से लेकर भर्ती और ऑपरेशन तक की सुविधाएं मिलेंगी। यह दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद का सैटेलाइट इंस्टीट्यूट होगा। यहां भी पीएचडी और एमडी कोर्स की सुविधाएं होंगी।

गाजियाबाद में खुलेगा देश का पहला नेशनल यूनानी मेडिसिन इंस्टीट्यूट
दिल्ली और गोवा की तरह ही यूपी के गाजियाबाद को पीएम मोदी 11 दिसंबर को गोवा से ही देश के पहले नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ यूनानी मेडिसन का तोहफा देंगे। इसमें भी सभी तरह के सुपर स्पेशियलिटी विभाग मौजूद होंगे। साथ ही साथ अत्याधुनिक जांच, इलाज और भर्ती की सुविधा मिलेगी। इस विधा में भी छात्र-छात्राओं को पीएचडी और एमडी करने का मौका मिलेगा। यह बेंगलुरु के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ यूनानी मेडिसिन का सैटेलाइट इंस्टीट्यूट होगा।

गोवा में अंतरराष्ट्रीय विश्व आयुर्वेद सम्मेलन के समापन पर होगा उद्घाटन
गोवा में 8 दिसंबर से चल रहे अंतरराष्ट्रीय विश्व आयुर्वेद सम्मेलन के समापन अवसर के दिन यानि 11 दिसंबर को पीएम मोदी वहां जाकर इन तीनों इंस्टीट्यूट का बटन दबाकर रिमोट सिस्टम से उद्घाटन करेंगे। इस अंतरराष्ट्रीय आयुर्वेद सम्मेलन के मुख्य वक्ताओं में शामिल नोएडा के आयुर्वेदाचार्य और राष्ट्रीय आयुर्वेद विद्यापीठ, आयुष मंत्रालय भारत सरकार के गुरु वैद्य अच्युत कुमार त्रिपाठी ने बताया कि इस सम्मेलन में देश-विदेश के जाने माने वक्ता भाग ले रहे हैं। इसमें पद्मभूषण  वैद्य देवेंद्र त्रिगुणा, आयुष सचिव वैद्य राजेश कोटेचा, आयुष सलाहकार वैद्य मनोज नेशरी व राष्ट्रीय आयुर्वेद विद्यापीठ के निदेशक वैद्य कौस्तुभ उपाध्याय मौजूद हैं। कार्यक्रम का समापन पीएम मोदी करेंगे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!