Delhi NCRInternationalNationalUncategorized

Yoga Poses : नियमित रूप से करें ये 5 योगासन खांसी-जुकाम और सर्वाइकल से हैं परेशान तो

मौसम में सर्दी, खांसी और सर्वाइकल से पीड़ित हैं तो इससे निजात पाने के लिए योगासन कर सकते हैं. आइए जानें आप नियमित रूप से कौन से योगासन कर सकते हैं

 उष्ट्रासन – एक योगा मैट पर घुटने टेकें और अपनी पिंडली को फर्श पर दबाएं फिर अपने हाथों को अपने श्रोणि के दोनों ओर रखें. आपकी हथेलियां आपके कूल्हे की हड्डी के सिरे पर टिकी होनी चाहिए. अब अपने टेलबोन को नीचे की ओर और आगे की ओर धकेलें जबकि आप अपने ऊपरी शरीर को सीधा रखें श्वास लें. धीरे से पीछे की ओर झुकें. अपने सिर को झुकाएं. अपनी हथेलियों को अपने पैरों के तलवों पर रखें पंद्रह सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहें. धीरे-धीरे प्रारंभिक स्थिति में वापस आ जाएं.

सेतुबंधासन – इस आसन को करने के लिए अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने घुटनों को मोड़ लें. अपने पैरों को फर्श पर सपाट रखें. अब जब आप सांस छोड़ते हैं, तो अपने श्रोणि को फर्श से छत की ओर ऊपर की ओर उठाएं. अपनी हाथों की ताकत का इस्तेमाल करें. कुछ देर इस मुद्रा में रहें. धीरे-धीरे प्रारंभिक स्थिति में वापस आ जाएं.

कपालभाति – सुखासन में आराम से बैठ जाएं और अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर ऊपर की ओर रखें. श्वास लें और जैसे ही आप अपनी नाक से सांस छोड़ें अपने पेट को खींचे. अब सांस अंदर लें और पेट की मांसपेशियों को ढीला करें. अपने पेट की मांसपेशियों को फिर से सिकोड़ें और सांस छोड़ें. इसे 50 बार करें और जब आप अभ्यास में सहज महसूस करें, तो संख्या बढ़ा दें. इसका अभ्यास रोजाना सुबह और शाम करें.

पर्वतासन – मुद्रा करने के लिए सुखासन मुद्रा में बैठें और अपने हाथों को आसमान की तरफ उठाएं. अपनी हथेलियों को एक दूसरे के सामने रखें अब दोनों हाथों को मिला लें और सांस लेते हुए हाथों को ऊपर की ओर फैलाएं. आप अपने पेट की मांसपेशियों में हल्का खिंचाव महसूस करेंगे इस मुद्रा में 12-15 सेकंड के लिए रुकें. इस आसन को पांच बार दोहराएं. उज्जायी प्राणायाम – सुखासन मुद्रा में आराम से बैठ जाएं. अपनी आंखें बंद करें और अपने हाथों को अपने घुटनों पर रखें. नथुने से धीरे-धीरे और गहराई से श्वास लें और जब तक हो सके श्वास को अंदर रखें. सांस भरते हुए ‘स’ की ध्वनि निकालें. धीरे-धीरे और गहरी सांस छोड़ें. सांस छोड़ते हुए ‘ह’ की ध्वनि निकालें

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!