ChhattisgarhRaipur

नवा रायपुर में बनेगी प्रदेश की पहली बीएसएल थ्री लैब

रायपुर। कोरोना वायरस या अन्य बीमारियों को लेकर प्रदेश में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की भूमिका बड़ी होने वाली है। एम्स की नवा रायपुर में बनने वाली नई यूनिट में प्रदेश की पहली बीएसएल थ्री (बायो सेफ्टी लेवल थ्री) लैब का निर्माण किया जाएगा। इस लैब के तैयार हो जाने के बाद कोरोना के अलावा टीबी, जापानी इंसेफेलाइटिस, चिकनगुनिया, कैंसर, स्वाइन फ्लू समेत अन्य बीमारियों की जांच और उनके वायरस के बदलते हुए स्वरूप की पहचान के लिए शोध किया जा सकेगा।

फिलहाल स्टेट लेबल की वायरालाजिकल लैब एम्स में संचालित है। कुछ दिनों पहले ही इंडियन काउंसिल फार मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) से मंजूरी मिलने के बाद जीनोम सिक्वेसिंग की जांच शुरू की गई है। कुछ दिनों पहले आइसीएमआर की टीम एम्स आई थी। राज्य सरकार की तरफ से नई यूनिट बनाने के लिए मिली जमीन को देखने के लिए टीम नवा रायपुर भी गई थी।

टीम ने वहां पर बीएसएल थ्री लैब के लिए जगह चिह्नांकित की है। आइसीएमओ की टीम के निर्देश पर एम्स ने नई लैब के लिए पूरा मास्टर प्लान तैयार कर लिया है। विशेषज्ञों की मानें तो एडवांस लेवल की बीएसएल थ्री लैब बनने के बाद कोरोना सहित अन्य बीमारियों की जांच में तेजी आएगी। साथ ही विशेषज्ञ बीमारियों पर शोध भी कर सकेंगे।

गौरतलब है कि एम्स रायपुर में मरीजों की संख्या में जैसे-जैसे बढ़ोतरी हो रही है, वैसे-वैसे नई-नई टेक्नोलाजी से इलाज का विस्तार भी किया जा रहा है। एम्स में छत्तीसगढ़ ही नहीं, महाराष्ट्र, ओडिशा, झारखंड व मध्य प्रदेश के लोग भी इलाज कराने के लिए आते हैं। स्वास्थ्य और शैक्षणिक सुविधाओं के विस्तार के लिए नवा रायपुर में एम्स यूनिट-दो बनाया जाना प्रस्तावित है, जिसके लिए राज्य शासन ने जमीन दी है और केंद्र सरकार से राशि मिल चुकी है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!