National

आज से शुरू हो रहे संसद के मानसून सत्र में हंगामे के आसार; महंगाई, अग्निपथ समेत अन्य मुद्दों पर विपक्ष करेगा वार

आज से संसद का मानसून सत्र शुरू होने जा रहा है. यह सत्र 12 अगस्त तक चलेगा. इस बार संसद के मानसून सत्र के हंगामेदार रहने के आसार जताए जा रहे हैं. विपक्ष महंगाई, बेरोजगारी और अग्निपथ जैसे अहम मुद्दों को लेकर सरकार को घेरने की कोशिश करेगा. बीते दिन ही संसद का मानसून सत्र शुरू होने के मद्देनजर सरकार द्वारा रविवार को सर्वदलीय बैठक हुई, जिसमें विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने हिस्सा लिया है.

संसद के मानसून सत्र से जुड़ी खास बातें

आज से संसद का मानसून सत्र शुरू होने जा रहा है. यह सत्र 12 अगस्त तक चलेगा. इस बार संसद के मानसून सत्र के हंगामेदार रहने के आसार जताए जा रहे हैं.बीते दिन ही संसद का मानसून सत्र शुरू होने के मद्देनजर सरकार द्वारा रविवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक हुई, जिसमें विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने हिस्सा लिया है.इस बार संसद का मानसून सत्र इसलिए भी खास है क्योंकि आज ही राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान होना है. चुनाव को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं.संसद का मानसून सत्र 12 अगस्त तक चलेगा. इस सत्र में संसद की 18 बैठकें होंगी. विपक्ष सरकार को महंगाई, अग्निपथ, ईडी-सीबीआई के दुरुपयोग के मुद्दे पर घेरने का प्रयास करेगा.संसद के मानसून सत्र के दौरान सरकार लोकसभा में चर्चा एवं पारित करने के लिये दो दर्जन नये विधेयक पेश करेगी.इसमें वन संरक्षण संशोधन विधेयक, ऊर्जा संरक्षण संशोधन विधेयक, परिवार अदालत संशोधन विधेयक, राष्ट्रीय रेल परिवहन संस्थान को गतिशक्ति विश्वविद्यालय में परिवर्तित करने संबंधी विधेयक शामिल हैं.लोकसभा सचिवालय द्वारा शुक्रवार को जारी एक बुलेटिन के अनुसार, सत्र के दौरान सरकार 24 नये विधेयकों के अलावा चार ऐसे विधेयक भी पेश करेगी जिस पर संसद की स्थायी समितियों ने विचार किया है.बुलेटिन के अनुसार, सत्र के दौरान माता पिता एवं वरिष्ठ नागरिकों का भरण पोषण एवं कल्याण संशोधन विधेयक, सहकारी समिति संशोधन विधेयक, नेशनल डेंटल कमीशन विधेयक, भारतीय प्रबंध संस्थान संशोधन विधेयक 2022 पेश किया जायेगा .इस सत्र के दौरान केंद्रीय विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2022 भी पेश किया जायेगा जिसके माध्यम से राष्ट्रीय रेल परिवहन संस्थान को गतिशक्ति विश्वविद्यालय में परिवर्तित करने का प्रस्ताव है.सत्र के दौरान भारतीय अंटार्कटिक विधेयक 2022 फिर से पेश किया जायेगा. पहले, इस विधेयक को एक अप्रैल 2022 को पेश किया गया था.संसद का मानसून सत्र में 18 बैठकें होंगी. संसद का यह सत्र खास रहने वाला है क्योंकि 18 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव होना है वहीं 6 अगस्त को उपराष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होगा.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!