NationalUncategorized
Trending

Gupt Navratri: नावं में सवार होकर आ रही मां दुर्गा, जाने घटस्थापना का शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म की में नवरात्रि पर्व का अपना अलग ही महत्व होता है। हिंदू मान्यता के अनुसार साल में चार नवरात्रि आते हैं जिसमें आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष में आने वाली नवरात्रि को गुप्त नवरात्रि कहते हैं। आषाढ़ गुप्त नवरात्रि में की जाने वाली पूजा अपना अलग महत्व रहता है। इसमें की जाने वाली पूजा को गुप्त रखा जाता है। माना जाता है कि इस दौरान आप जितनी गुप्त तरीके से  पूजा करते हैं उतना ही फायदा मिलता है। वही उत्तर दिशा की ओर मुख करके पूजा करना और भी श्रेष्ठ माना जाता है।गुप्त नवरात्रि में तंत्र और मंत्र दोनों के जरिए पूजा की जाती है।

इस बार की गुप्त नवरात्रि अनेकों रूप से विशेष मानी जा रही है क्योंकि,दशकों बाद इस गुप्त नवरात्रि का प्रारंभ कई शुभ योगों में हुआ है। इस बार मां दुर्गा नाव पर सवार होकर आ रही हैं। गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा के अलावा माँ के 10 रूपों मां काली, तारा देवी, त्रिपुर सुंदरी, माता छिन्नैमस्ता, भुवनेश्वरी, मां धुम्रावती, त्रिपुर भैरवी, मातंगी मां बगलामुखी और कमला देवी की आराधना करते हैं।

घट स्थापना मुहूर्त एवं समाप्ति

घटस्थापना मुहूर्त- सुबह 05 बजकर 53 मिनट से 07 बजकर 07 मिनट तक
अवधि- 01 घण्टा 15 मिनट्स
घटस्थापना अभिजित मुहूर्त- दोपहर 12 बजकर 06 मिनट से 12 बजकर 59 मिनट
प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ- जून 29, 2022 को  सुबह 08 बजकर 21 मिनट पर शुरू,
प्रतिपदा तिथि समाप्त- जून 30, 2022 को सुबह 10 बजकर 49 पर खत्म।

गुप्त नवरात्रि के दौरान 10 महाविद्या की पूजा की जाती है। ऐसे में मनोकामना को शीघ्र पूरा करने के लिए इस दौरान दुर्गा सप्तशती और सिद्ध कुंजिकास्तोत्र का पाठ अवश्य करना चाहिए।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!