Pendra Gorela

गौरेला पेंड्रा मरवाही जिले के अंतिम छोर बेलझिरिया पंचायत में जिला स्तरीय जन समस्या निवारण शिविर आयोजित…

@सुमित जालान

Related Articles

गौरेला पेंड्रा मरवाही :- जिले में ग्रामीणों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए पंचायत स्तर पर ही उनकी जरूरी मांगों और समस्याओं के त्वरित निराकरण के लिए जिले के अंतिम छोर के पंचायत बेलझिरिया में आयोजित जन समस्या निवारण शिविर में 564 आवेदनों का निराकरण किया गया।

इस अवसर पर विधायक डॉक्टर के के ध्रुव ने कहा कि यह शासन की अच्छी पहल है, ऐसे ग्रामीण जो तहसील और जिला स्तर पर नहीं पहुंच पाते उनकी समस्याओं और मांगों का निराकरण जिला प्रशासन द्वारा पंचायत स्तर पर शिविर लगाकर किया जा रहा है। उन्होंने लंबित आवेदनों का निराकरण समय सीमा में करने संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए। डॉ ध्रुव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल गौरेला पेंड्रा मरवाही को जिला बना कर विकास सुनिश्चित किया है। विधायक ने जिले के सर्वांगीण विकास के लिए ग्राम वासियों को आश्वस्त किया।
      
शिविर में कलेक्टर सुश्री नम्रता गांधी ने विभागीय स्टालों का अवलोकन किया और लोगों द्वारा प्राप्त आवेदनों और उसके निराकरण के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। कलेक्टर ने शिविर में उपस्थित ग्राम वासियों से कहा कि यह शिविर उन्ही के लिए है और उन्हें लाभान्वित करने के लिए लगाया गया है। कलेक्टर ने ग्रामीणों की समस्याओं और मांगों के बारे में पूछताछ की और  मौके पर ही ग्राम उसाढ़ी के महादेव यादव को बी-वन खसरा, ग्राम परासी के मनोज कुमार का रिकॉर्ड दुरुस्ती,ग्राम बेलझिरिया के गुलाब को किसान किताब एवं गंगा राम का खाता विभाजन करने के साथ ही अनेक ग्रामीणों के आवेदनों का तुरंत निराकरण किया।

शिविर में जनपद पंचायत मरवाही के अध्यक्ष श्री प्रताप सिंह मरावी, उपाध्यक्ष श्री अजय राय, सदस्य श्री शुभम पेंद्रो एवं ग्राम पंचायत बेलझिरिया की सरपंच श्रीमती कुसुम बाई पाव ने लोगों को संबोधित किया और जिला प्रशासन द्वारा आयोजित जन समस्या निवारण शिविर के लिए धन्यवाद दिया। शिविर में विभिन्न मांगों से संबंधित प्राप्त 804 आवेदनों में से 564 का निराकरण किया गया। शेष 240 का निराकरण समय सीमा में किया जाएगा। निराकृत आवेदनों में पंचायत विभाग से संबंधित 228, खाद्य विभाग से 161, पशुधन विकास 40, राजस्व 37, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी 29, श्रम 21, विद्युत 15, स्वास्थ्य 10, शिक्षा पांच,  ग्रामीण यांत्रिकी सेवा चार, महिला एवं बाल विकास दो, प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना तीन, मछली पालन तीन, उद्यान दो, आदिवासी विकास दो और कृषि विभाग से संबंधित एक आवेदन शामिल है।

एमएमशिविर में जिला अधिकारियों ने विभागीय योजनाओं की जानकारी दी और लोगों को पात्रता के अनुसार जनकल्याणकरी योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाने को कहा। इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती अर्चना झा, जिला पंचायत के परियोजना प्रशासक श्री आर के खूटे, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ देवेंद्र पैकरा, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री पुष्पेंद्र शर्मा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री डॉ राहुल गौतम सहित सभी विभागों के जिला, तहसील एवं खंड स्तरीय अधिकारी, स्थानीय जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!